ब्रह्मादि देवों द्वारा गोलोक धाम का दर्शन – गोलोक खण्ड : अध्याय 2 – गर्ग संहिता ।।

ब्रह्मादि देवों द्वारा गोलोक धाम का दर्शन – गोलोक खण्ड : अध्याय 2 – गर्ग संहिता ।। devo dwara golok dham

Read more

गुरु भगवान का रूप होता है ।।

आचरणशील व्यक्ति की सहायता परमात्मा नित्य ।। पुरुषकारमनुवर्तते दैवम् ।। अर्थ:- दैव (परमात्मा) भी पौरुष (पुरुषार्थियों या चरित्रवानों)) का ही अनुसरण

Read more

भगवान से विनती अथवा माँगना कहाँ तक उचित है ।।

भगवान से विनती अथवा माँगना कहाँ तक उचित है ।। bhagwan se mangana uchit ya anuchit भगवान से विनती – परमात्मा

Read more