अथ श्री भरत अग्रज अष्टकम् ।।

अथ श्री भरत अग्रज अष्टकम् ।। Shri Bharat Agraja Ashtakam हे जानकीश वरसायकचापधारिन् हे विश्वनाथ रघुनायक देव-देव। हे राजराज जनपालक

Read more

राम राज्य का असली अभिप्राय समझें ।।

रघुवंश महाकाव्य के राजा दिलीप का वर्णन करते हुए महाकवि कालिदास कहते हैं कि – जिस प्रकार सूर्य, समुद्र से

Read more

नारद जी के द्वारा अवतार-भेद का निरूपण – गर्ग संहिता ।।

गर्ग संहिता – गोलोक खण्ड : अध्याय 1 – नारद जी के द्वारा अवतार-भेद का निरूपण ।। narad ji dwara avatar bhed ka

Read more