तुझे याद करने से पहले चेहरे पर मुस्कान आती हैं ।।

तुझे याद करने से पहले चेहरे पर मुस्कान आती हैं ।। Tujhe Yaad Karane Se Pahale Chehare Par Muskan Aati Hai.

 

जय श्रीमन्नारायण,

       प्यारे कन्हैया, प्यारे कान्हा जी !

                मैं तुम्हें इतने प्यार से बुलाता हूँ, कभी भूलकर ही सही “आ भी जाओ प्यारे” ।।

 

तुझे याद करने से पहले चेहरे पर मुस्कान आती हैं ।।
लेकिन भूल जाने के डर से पहले ही जी काँप जाती है ।।
क्यूँ इस तरह याद बनकर रह गये वो लम्हे
रूह मेरी भूल से भी भूलने से सहम जाती है ।।

 

छोड़ दिया मैंने अपने दिल का साथ ।
प्यार से थाम लिया हैं तन्हाई ने हाथ ।।

Shrimad Bhagwat Katha

आँसुओं की कीमत जान गए हैं हम ।
जब तक थे साथ ना था कोई गम ।।
आपके बदलते ही अहसास हो गया ।
कि एक अनमोल खजाना हाथों से छूट गया ।।

 

प्यार की भाषा मैंने कभी समझी नहीं ।
अहसासों को लब्जो में कभी पिरोया नहीं ।।
पता ही नहीं था वो शब्दों का इन्तजार कर रहे थे ।
हम आँखों से बोलते रहे वो पत्थर दिल हमे छोड़ गये ।।

 

हँसकर अलविदा कह दिया था हमने ।
पर हर जर्रे में आपकी यादें थी ।।
लेकिन प्यारे ! जब भी आपकी याद आती थी ।
मेरी रूह-रूह सच्चाई बयां कर जाती थी ।।

Krishna Pyare

तत्सुखे सुखित्वं ।। (नारद भक्तिसूत्र)

प्यारे ! प्यार कभी पाने की जिद्द नहीं करता ।
खुद के लिए खुशियों की उम्मीद नहीं करता ।।
जिसने बिना किसी ख्वाइश के प्यार किया हो ।
उसका दिल कभी दर्शन पाने की जिद नहीं करता ।।

 

प्यारे ! आपका प्यार कोई पैसा नहीं जो बांटने से खत्म हो जाये ।।
मेरे प्रियतम आपका प्यार तो वो ख़जाना हैं जो बांटने से बढ़ता हैं ।।

 

भक्तों, बहते आँसू यूँ गँवा ना देना, ये तो प्यार की निशानी हैं ।
जो कह दिया वो प्यार ही क्या, यादों में ही हँसना असल (भक्ति) जिंदगानी हैं ।।

Shrimad Bhagwat Katha

कभी तो आ भी जाओ प्रियतम ! क्योंकि प्यारे ! आपके बिना हमारा कोई आस्तित्व ही नहीं बचता ।।

 

Sansthanam:   Swami Ji:   Swami Ji Blog:    Sansthanam Blog:    facebook Page:

 

जय जय श्री राधे ।।
जय श्रीमन्नारायण ।।

Sevashram Sansthan Silvassa

Contact to "LOK KALYAN MISSION CHARITABLE TRUST" to organize Shreemad Bhagwat Katha, Free Bhagwat Katha, Satsang. in your area. you can also book online.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *